ईमानदार लकड़हारा की कहानी | Honest Woodcutter Story in Hindi

ईमानदार लकड़हारा की कहानी 

किसी गांव में मंगू नाम का एक लकड़हारा रहता था। वह बेहद गरीब लेकिन स्वभाव से ईमानदार था। वह जंगल से रोज लकडिया काटकर लाता और उसे बेचकर अपने परिवार का पालन पोषण करता था। और इसी तरह उसका समय गुजर रहा था। 

हर बार की तरह वो एक दिन जंगल में लकडिया लेने गया और नदी किनारे एक बड़े से पेड़ पर चढ़कर लकड़िया काटने लगा। वो पेड़ से लकड़ियाँ काट ही रहा था कि इसी दौरान कुल्हाड़ी उसके हाथ से नदी के गहरे पानी में जा गिरी। 
honesh woodcutter story, woodcutter story, lakadhare ki kahani, imandaar lakadhara ki kahani
ईमानदार लकड़हारा की कहानी

एकाएक इस घटना से मंगू स्तब्ध रहा गया और फिर दुःखी होकर रोने लगा क्यूंकि उसके पास सिर्फ वो लोहे की एक ही कुल्हाड़ी थी और अब वो भी नदी में गहरे पानी में गिर गयी। अब उसके बिना वो कैसे लकड़ियाँ काटेगा। और ऐसे हालत में तो वो और परिवार भूखे मर जायेगा। ये सोच सोचकर मंगू जोर जोर से रोने लगा। 

तभी नदी में से जल देवता प्रकट हुए और मंगू से उसके रोने का कारण पूछा। मंगू ने जल देवता को सारी बात बताई। तो जल देवता ने कहा कि मंगू तुम चिंता मत करो। मैं अभी तुम्हारी कुल्हाड़ी पानी में से ढूंढ़कर बाहर लाता हूँ। 
ये कहकर जल देवता ने पानी में डुबकी लगायी और अपने साथ चाँदी की कुल्हाड़ी लेकर बाहर आये। जल देवता ने मंगू से कहा कि मंगू ये लो तुम्हारी कुल्हाड़ी। 

तो मंगू ने सोने कुल्हाड़ी देखकर कहा कि नहीं भगवन ये मेरी कुल्हाड़ी नहीं हैं। 
ये सुनकर जल देवता फिर से पानी में गए और इस बार वो सोने की कुल्हाड़ी लेकर बाहर आये और बोले - "मंगू ये लो तुम्हारी कुल्हाड़ी मिल ही गयी।"
इस बार भी मंगू में यह कहकर मना कर दिया कि वो सोने की कुल्हाड़ी उसकी नहीं है। 
तो एक बार फिर जल देवता ने पानी में डुबकी लगायी और अबकी बार वो अपने साथ एक लोहे की कुल्हाड़ी लेकर आये थे। 

ये देखकर मंगू ख़ुशी से बोल उठा - "हां भगवन ये ही मेरी कुल्हाड़ी।"
मंगू की इस ईमानदारी को देखकर जल देवता बेहद प्रसन्न हुए और कहा -  "मंगू मैं तुम्हारी ईमानदारी से बेहद प्रसन्न हूँ। अतः ये तीनों कुल्हाड़ीया उपहार स्वरूप मैं तुम्हे ही देता हूँ।"
"सदा सुखी रहो।"

कहानी से शिक्षा 
हर व्यक्ति को उसकी ईमानदारी का उचित फल अवश्य मिलता है। 
   
तो दोस्तों ईमानदार लकड़हारा की कहानी आपको कैसी लगी। हमे कमेंट करके जरूर बताये। साथ ही इस कहानी को  दोस्तों में भी शेयर जरूर करें।
इसी तरह की प्रेरक और मजेदार कहानियों की जानकारी सबसे पहले प्राप्त करने के लिए आप हमारे इस ब्लॉग को जरूर सब्सक्राइब करें  

आप ये भी पढ़े :

Post a Comment

0 Comments