loading...

जानिए दुनिया की 10 सबसे ताकतवर सेनाओ के बारे में | most powerful army in the world 2019

हेलो दोस्तों आज के समय में जिस तरह से वैश्विक खतरे बढ़ते जा रहे है और एक देश दूसरे देश को अपने प्रतिद्वंदी के रूप में देखने लगा है उसके परिणामस्वरूप अब हर एक देश अपने आप को दुसरो से ज्यादा ताकतवर बनाना चाहता है और इसीलिए वो अपनी सेना को और भी मजबूत एवं आधुनिक हथियारो से लैस करता जा रहा है। उनमे से कुछ ऐसे देश है जिनकी सैन्य ताकत दुनिया की शीर्ष ताकतों में गिनी जाती है। इसलिए आज में आपको दुनिया की 10 सबसे ताकतवर सेनाओं (most powerful army in the world) के बारे में विस्तार से जानकारी देने जा रहा हूँ। तो चलिए इसके बारे में विस्तार से जानते है।     
most powerful army in the world, दुनिया की 10 सबसे ताकतवर सेनाये, powerful army in thew world, top 10 army
most powerful army in the world | दुनिया की 10 सबसे ताकतवर सेनाये 

दुनिया की 10 सबसे ताकतवर सेनाये (most powerful army in the world):


1. United State:

सयुंक्त राज्य अमेरिका को दुनिया की महाशक्ति भी कहा जाता है क्यूंकि इसके पास दुनिया की सबसे एडवांस और ताकतवर सेना है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से ही अमेरिका ने राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम और शीत युद्ध की शुरुआत के दौरान आधुनिक सैन्य ढांचा बनाया जिसके परिणामस्वरूप आज अमेरिका की सेना दुनिया की सबसे ताकतवर सेना बनी हुयी है। इसका रक्षा बजट 610 बिलियन डॉलर के साथ दुनिया में सबसे ज्यादा है।  

इस देश के पास लगभग 7200 परमाणु हथियारों का जखीरा है जो दुनिया में रूस के बाद दूसरा सबसे बड़ा परमाणु भंडार है। इसलिए अमेरिका की वायु सेना, नौसेना भी दुनिया में सबसे ताकतवर है। अमेरिका की मिलिट्री पावर पांच सशस्त्र सेवाओं में विभाजित है: सेना, सेना, तटरक्षक, मरीन कॉर्प और नौसेना। 

अगर सैन्य शक्ति की बात करे तो अमेरिका के पास Active Forces 12,81,900 और Reserve Forses लगभग 860,000 है। वही इसकी Airpower में 13,398 aircraft है जिसमे से 2362 fighter plane, 2831 attackers और 5760 हेलीकाप्टर है। इसके पास युद्धक टैंको की संख्या 6,287 है तो वही इसकी Total Naval Assets 415 से भी ज्यादा है जिसमे 24 aircraft career और 68 Submarines (पनडुब्बियाँ) है।   


2. Russia:

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से ही और उसके बाद शीत युद्ध से लेकर अब तक रूस, अमेरिका का प्रतिद्वंदी बना हुआ है। 25 दिसंबर 1991 में हुए सोवियत संघ के विघटन के बाद से ही रूस ने अपनी सेना को पहले की अपेक्षा और भी ज्यादा मजबूत बनाना शुरू कर दिया है। इसलिए आज के समय में रूस की सेना अमेरिका के बाद दुनिया की दूसरी सबसे ताकतवर सेना है। रूस का रक्षा बजट 76.6 बिलियन डॉलर के आसपास है और वो इसमें अगले तीन वर्षो में 44% की वृद्धि करने जा रहा है।

सैन्य ताकत के हिसाब से रूस के पास सक्रिय सेनिको की संख्या 10,13,628 और रिज़र्व सेनिको की संख्या 25,72,500 है। दुनिया में सबसे ज्यादा परमाणु हथियार (लगभग 7500) रूस के पास ही है। इसके अलावा दुनिया में सबसे ज्यादा युद्धक टैंक (21,932) भी इसी देश के पास ही है। 

रूस के पास Total aircraft 4078 है जिनमे से 869 fighter और 1459 attacker aircraft है वही कुल हेलीकाप्टर की संख्या 1485 है। इसके अलावा रूस की Navel assets 352 है जिसमे 1 Aircraft career, 13 frigates, 13 destroyer और 56 submarines शामिल है।       

3. China: 

सैन्य ताकत के मामले में यह दुनिया की सबसे बड़ी सेना है परन्तु चीन के पास दुनिया की सबसे बड़ी सेना है जिसे मुक्ति सेना भी कहते है। इसकी सेना में सक्रिय सेनिको की संख्या लगभग 2,123,000 है और 510,000 रिज़र्व सैनिक है। इसका रक्षा बजट आधिकारिक तौर पर 126 बिलियन डॉलर है जिसमे आगामी समय में लगभग 12.2 प्रतिशत बढ़ोत्तरी की संभावना है। 

चीन के परमाणु हथियारों की संख्या लगभग 300 है। इसके पास कुल 3187 aircraft, 1004 हेलीकॉप्टर, 13050 युद्धक टैंक है। इसके अलावा कुल 714 navel assets है जिनमे से 1 विशाल aircraft, 33 destroyer, 76 submarines, 33 mine warfare आदि शामिल है। 

आप ये भी पढ़े:
  # ये है दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश 
  # ये है दुनिया के सबसे खतरनाक कुत्ते 
  # ये है दुनिया के सबसे ऊँचे स्मारक की खास बातें 


4 India:

भारतीय सेना एशिया की तीसरी और विश्व की चौथी सबसे बड़ी सेना है। भारतीय सेना अपने पडोसी मुल्को द्वारा बार बार किये जाने वाले अघोषित युद्ध के कारण अपने आप को लगातार ताकतवर बना रही है। भारतीय सीमा पर होने वाली अवैध घुसपैठ और आतंकी गतिविधियों और लगातार युद्ध जैसी स्थितियों के कारण भारतीय सेना ने अपने आप को इतना मजबूत कर लिया है जिसके कारण अब कोई भी दुश्मन देश इसको युद्ध में शिकस्त नहीं दे सकता। 

भारतीय सैनिक कठिन एवं उन्नत ट्रेनिंग तथा मजबूत देश भक्ति के कारण हिमालय जैसे सबसे ऊँचे ग्लेशियरो और कुछ ऐसी ही अन्य विषम परिस्थितियों में भी देश की सरहदों की रक्षा करने को तत्पर रहते है। 

अगर भारत की सैन्य ताकत की बात करे तो इसके पास कुल एक्टिव सेनिको की संख्या 1,362,500 और रिज़र्व सेनिको की संख्या 2,100,000 है। भारत के पास लगभग 110 से लेकर 130 परमाणु हथियार है। भारत के पास कुल 2082 एयरक्राफ्ट और 692 युद्धक हेलीकॉप्टर, 4184 युद्धक टैंक और  है। 266 राकेट प्रोजेक्टर्स है। इसकी नेवी ताकत की बात करे तो इसके पास कुल 295 नेवल एसेट्स है जिसमे 1 एयरक्राफ्ट करियर, 11 डेस्ट्रॉयर, 22 करवेट्स, 16 पनडुब्बियां आदि भी शामिल है।    

5. United Kingdom:

इंग्लैंड, स्कॉटलैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड आदि का सम्मिलित रूप यूनाइटेड किंगडम कहलाता है जो कि यूरोपीय संघ का सदस्य है। इसकी सैन्य ताकत की बात करे तो इसने वर्ष 2010 से 2018 तक अपने सशस्त्रबलो में लगभग 20% कमी करने की योजना बनायीं है। परन्तु फिर भी इसकी सेना आकार में छोटी होने के बावजूद भी विश्व की पांचवी सबसे बड़ी सैन्य ताकत कहलाती है।  

इसके पीछे कारण है इसके बेहतर प्रशिक्षण, उपकरण और इसके 160 परमाणु हथियार जो इसकी मुख्य ताकत हैं। इसके अलावा इसके पास 1,50,000 एक्टिव सैनिक और 83000 रिज़र्व सैनिक है। इसके कुल एयरक्राफ्ट की संख्या 811 है तो वही हेलीकॉप्टर की संख्या 319 है। इसके पास 331 युद्धक टैंक और 35 राकेट प्रोजेक्टर्स है।  इसके अलावा इसकी 76 navel assets में से 1 एयरक्राफ्ट, 13 frigates, और 10 पनडुब्बियां आदि सम्मिलित है।   


6. France:

फ्रांस यूरोप का एक मुख्य सैन्य बल है। इसने वर्ष 2013 में अपनी सेना को तकनिकी रूप से और अधिक उन्नत बनाने के लिए अपनी सैन्य नोकरियो में कटौती करना शुरू कर दिया है। इसके बदले में अब वह अपनी सेना को स्वदेशी तकनीक से बने हुए आधुनिक सामरिक हथियारों से लेस् करना शुरू कर रहा है जिसमे उसकी स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल पनडुब्बियां हैं जो फ्रांसीसी डिजाइन की हुई मिसाइलों को फ्रांसीसी युद्धक हथियारों से लैस करती हैं। 

फ्रांस के सैन्य बल में कुल 2,15,000 सक्रीय और 1,83,635 रिज़र्व सैनिक है। फ्रांस के पास कुल 290 परमाणु हथियार है। इसके पास स्वदेशी डिजाइन वाले राफेल और मिराज 2000 एन बमवर्षक जैसे 220 लड़ाकू विमानों का बल है। इसके अलावा इसके सामरिक परिवहन बेड़े के साथ चार AWACS विमानों और 14 टैंकर भी है जो इसकी हवाई शक्ति को भी मजबूत बनाए रखता है।

इसके पास अपने पारम्परिक ब्रिटिश प्रतिद्वंदी की तुलना में ज्यादा बड़ा और ज्यादा सक्षम विमान वाहक पोत भी है। इसके जमीनी युद्धक बेड़े में 406 युद्धक टैंक है।  

7. Germany:

जर्मनी दुनिया की सबसे मजबूत आर्थिक ताकतो में से एक है परन्तु ऐतिहासिक रूप से कई बड़े देशो से  युद्ध में हारने का कारण इस देश के लोग आज भी सेना में शामिल होने से हतोत्साहित करता है। परन्तु फिर भी ये देश विश्व की सबसे बड़ी सैन्य ताकतों में गिना जाता है। 

यह देश हर साल 45 मिलियन डॉलर अपनी सेना पर खर्च करता है। इसके पास 178641 सक्रिय सैनिक और 30,000 रिज़र्व सैनिक है। इसके सैन्य बेड़े में 613 एयरक्राफ्ट, 313 हेलीकॉप्टर, 900 युद्धक टैंक और 6 पनडुब्बियां है।  


8. Turkey:

तुर्की दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकवादी संघटन यानि इस्लामिक इस्टेट के आतंक से झूंज रहे देशो का पडोसी है जिसके कारण इसे भी उस खतरे को देखते हुए अपनी सेना को पहले से ज्यादा ताकतवर बनाने की जरुरत महसूस हुई। अतः तुर्की ने वर्ष 2015 में अपने रक्षा बजट में 10% बढ़ोत्तरी करने का निर्णय लिया। वर्तमान में इसका रक्षा बजट 18.18 बिलियन डॉलर है। 

तुर्की की सेना में 3,55,000 सक्रिय सैनिक और 3,80,000 रिज़र्व सैनिक है। इसकी वायुसेना में 1076 विमान 492 लड़ाकू हेलीकॉप्टर है। इसकी थल सेना की बात करे तो इसके पास 3200 युद्धक टैंक है और इसकी जल सेना में 194 सम्पत्तिया है जिसमे 12 पनडुब्बियां शामिल है। 

टर्की के पास कोई भी परमाणु हथियार नहीं है और न ही इसका कोई आगामी परमाणु कार्यक्रम है। यह NATO का सदस्य देश है।  


9. South Korea:

दक्षिण कोरिया एक पूर्वी एशियाई देश है जो की उत्तरी कोरिया का पडोसी देश है। इसके लगातार अपने पड़ौसी (उत्तरी कोरिया) से तनावपूर्ण सम्बन्धो के चलते एवं चीन और जापान जैसे प्रतिद्वंदीयो के कारण इस पर अपनी सेना को ज्यादा ताकतवर बनाने का दबाव रहता है। इसलिए दक्षिण कोरिया लगातार अपने रक्षा बजट में वृद्धि करता जा रहा है। 

इसका रक्षा बजट लगभग 34 बिलियन डॉलर है। इसके पास 6,25,000 सक्रिय सैनिक एवं 5,202,250 रिज़र्व सेनिको की विशाल सेना है। इसकी वायु सेना 1614 विमानों के साथ विश्व की 6 वी सबसे बड़ी वायुसेना है। जमीनी ताकत के हिसाब से इसके पास 2654 युद्धक टैंक है। इसके पास लगभग 15000 भूमि हतियार है। इसकी जल सेना में 1 विशाल विमान वाहक पोत और 16 पनडुब्बियां शामिल है। समय समय पर इसकी सेना अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास भी करती रहती है।   


10. Japan:

जापान एशिया की बड़ी महाशक्तियो में से एक महाशक्ति कहलाता है। द्वितीय विश्व्युद्ध के समय जापान दुनिया में एक बड़ी आक्रामक सैन्य ताकत हुआ करता था। उस समय ये देश अकेले अमेरिका से भी मुकाबला करने की ताकत रखता था। परन्तु उस दौर में अमेरिका द्वारा इसपर परमाणु हम्ला किये जाने के कारण ये देश बिलकुल बर्बादी की कगार पर पहुँच गया था। इस हमले के बाद जापान की  आक्रामक सेना को अमेरिका द्वारा घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। अन्ततः जापान ने अमेरिका से शांति संधि की।

ये तो रही बात उस दौर की। परन्तु अब हालत कुछ अलग है। वर्तमान में चीन इसके लिए चुनौती बना हुआ है जो की एक विस्तारवादी रवैया अपनाता है। इसी हालात के चलते जापान ने पिछले कुछ समय से अपने रक्षा बजट में बढ़ोत्तरी करनी शुरू कर दी है। वर्तमान में इसका रक्षा बजट 47 बिलियन डॉलर है जो कि दुनिया में 6 व सबसे बड़ा रक्षा बजट है।

जापान की सेना में सक्रिय सेनिको की संख्या 2,47,157 और 56,000 रिज़र्व सैनिक है। इसकी वायुसेना के पास 1572 विमानो का विशाल बेडा है जो इसे दुनिया की 5 सबसे बड़ी वायु सेना बनाती है। इसकी थल सेना में 1004 टैंक और 99 राकेट प्रोजेक्टर्स है। इसके अलावा इसकी जल सेना में 131 युद्ध पोत है।    


अंत में :
तो दोस्तों दुनिया की 10 सबसे ताकतवर सेनाओ के बारे में दी गयी जानकारी आपको कैसी लगी, हमे कमेंट करके जरूर बताये और इस पोस्ट को अपने दोस्तों में भी शेयर करे। यदि आप इसी तरह की रोचक जानकारिया पाना चाहते है तो आप इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे। 
धन्यवाद। 

ये भी पढ़े:
  # किसी भी एग्जाम में टॉप कैसे करे ?
  # एक Perfect Resume कैसे बनाये ?
  # इंग्लिश बोलना कैसे सीखे ?
  # IAS एग्जाम की तैयारी कैसे करे ?




Previous
Next Post »

Thanks for Comment ConversionConversion EmoticonEmoticon