Agriculture में करियर कैसे बनायें | How to make the career in agriculture

Agriculture में क्या करियर ऑप्शन है, Agriculture में करियर कैसे बनायें या कृषि क्षेत्र में अच्छा करियर बनाया जा सकता है ? यदि कुछ ऐसे ही सवाल आपके मन में भी है तो आपको ये पोस्ट जरूर पढ़नी चाहिए। 

दोस्तों आम धारणा है कि खेती से जुड़कर अच्छा करियर नहीं बन सकता लेकिन दोस्तों सच्चाई यह है कि कृषि से सम्बंधित पढ़ाई पूरी करने के बाद आप सीधे तौर पर खेती या इससे सम्बंधित गतिविधियों से जुड़कर कृषि क्षेत्र में अच्छा करियर बना सकते हैं।


तेजी से बदलते समय के साथ लोगों की सोच में भी सकारात्मक परिवर्तन आया है। जहा कुछ वर्षो पहले तक देश का युवा वर्ग पढ़ाई के नाम पर केवल इंजीनियरिंग और डॉक्टरी के पीछे ही भागता था। वही अब कृषि के क्षेत्र में भी युवाओ को करियर की अपर संभावनाए नजर आने लगी है। 

Agriculture में करियर कैसे बनायें | How to make the career in agriculture, career in agriculture, agriculture job, careerin farming
Agriculture में करियर कैसे बनायें | How to make the career in agriculture

दोस्तों, भारत एक कृषि प्रधान देश है और देश की लगभग 70 फीसदी आबादी जीविका के लिए आज भी पूरी तरह कृषि पर ही निर्भर करती है और यह भारत की अर्थव्यवस्था में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। 
रिसर्च और इनोवेशन ने खेती का दायरा बड़ा दिया है। अब पारम्परिक तरीके के अलावा हॉर्टिकल्चर, पोल्ट्री फार्मिंग, कृषि जैव प्रौद्योगिकी और डेयरी फार्मिंग की और भी बढ़ा है। कृषि उत्पादन के विपणन, वितरण और पैकेजिंग पर ध्यान देकर बिज़नेस किया जा रहा है। 

इस प्रकार आप ये आसानी से समझ सकते है कि वर्तमान में कृषि क्षेत्र में करियर की कितनी अपार सम्भावनाये है। 

तो आईये अब जानते है कि Agriculture में क्या करियर ऑप्शन है और Agriculture में करियर कैसे बनायें?

एग्रीकल्चर कोर्स एवं योग्यता:

एग्रीकल्चर सर्टिफिकेट कोर्स :

10 वी या 12 वी के बाद आप एग्रीकल्चरल सर्टिफिकेट प्रोग्राम में भाग ले सकते है। इस कोर्स की अवधि 1-2 साल के बीच की होती है। 
  • सर्टिफिकेट इन एग्रीकल्चर साइंस   
  • सर्टिफिकेट इन फ़ूड एंड बेवरिज सर्विस 
  • सर्टिफिकेट इन बायो-फर्टिलाइजर प्रोडक्शन

एग्रीकल्चर डिप्लोमा कोर्स :

10 वी या 12 वी पूरा करने के बाद डिप्लोमा किया जा सकता है। इस कोर्स की अवधि आम तौर पर 3 साल की होती है लेकिन संस्थान और कोर्स प्रकार के आधार पर यह 1-3 साल के बीच भी कही-कही हो सकती है। 
  • डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर
  • डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर एंड अलाइड प्रैक्टिस 
  • डिप्लोमा इन फ़ूड प्रोसेसिंग 

आप ये भी पढ़े:

बैचलर ऑफ साइंस (बीएससी)

यह कार्यक्रम 3 साल लम्बा है। इसके लिए साइंस साइड से 10 + 2 उत्तीर्ण होना आवश्यक है। इसमें आप ये निम्न कोर्स कर सकते है। 
  • बीएससी इन एग्रीकल्चर
  • बीएससी इन क्रॉप साइकोलॉजी 
  • बीएससी इन डेयरी साइंस 
  • बीएससी इन फिशरीज साइंस 
  • बीएससी इन प्लांट साइंस 


स्नातक कोर्स :

बीई या बीटेक कार्यक्रम इंजिनीयरिंग डिग्री पाठ्यक्रम है। ये शैक्षणिक 4 साल का होता है। इसके लिए 10 + 2 साइंस से उत्तीर्ण होना आवश्यक है। 
  • बीटेक इन एग्रीकल्चरल इंजिनीयरिंग 
  • बीटेक इन एग्रीकल्चर इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी 
  • बीटेक इन एग्रीकल्चर एंड डेयरी टेक्नोलॉजी 
  • बीटेक इन एग्रीकल्चर एंड फ़ूड इंजिनीयरिंग

आप ये भी पढ़े:

बैचलर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीए)    

यह एक स्नातक स्तर के प्रबंधन कार्यक्रम हैं। इस कोर्स की अवधि 3 साल है। इस कोर्स को करने के लिए 10 + 2 होना आवश्यक है। 
  • बीबीए इन एग्रीकल्चर मैनेजमेंट 

मास्टर कोर्स :

मास्टर डिग्री, पीजी डिप्लोमा और पीजी प्रमाणपत्र कार्यक्रम पीजी स्तर के पाठ्यक्रम है। बैचलर डिग्री कोर्स पूरा करने वाले उम्मीदवार इन पाठ्यक्रमों में नाम लिखा सकते है। 
  • एमएससी इन एग्रीकल्
  • एमएससी इन बायोलॉजिकल साइंस 
  • एमएससी इन एग्रीकल्चरबॉटनी 

डॉक्टरल कोर्स:

पीएचडी एक शोध आधारित डॉक्टरेट कार्यक्रम है। ऐसे उम्मीदवार जिन्होंने प्रासंगिक पीजी कोर्स पूरा कर लिया है, वे इस कार्यक्रम में हिस्सा ले सकते है। 
  • डॉक्टर ऑफ़ फिलोसॉफी इन एग्रीकल्चर
  • डॉक्टर ऑफ़ फिलोसॉफी इन एग्रीकल्चर बायोटेक्नोलॉजी
  • डॉक्टर ऑफ़ फिलोसॉफी इन एग्रीकल्चर एंटोमोलॉजी 

ये है प्रमुख संस्थान :

एग्रीकल्चर कोर्स करने के लिए देश के कई सरकारी और गैर सरकारी कॉलेज मौजूद है। आप इनमे से किसी भी कॉलेज में एडमिशन ले सकते है –
  • पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, लुधियाना 
  • खालसा कॉलेज, अमृतसर 
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जलंधर 
  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, मोहाली 
  • गुरु अंगद देव वेटनरी एंड एनिमल साइंस यूनिवर्सिटी, लुधियाना 

नौकरियों की भरमार :

आप सरकारी और गैर सरकारी संगठनों में काम कर सकते है। इंडियन कॉउन्सिल ऑफ़ एग्रीकल्चरल रिसर्च में अपना हुनर दिखा सकते है। एग्रीकल्चर इंजीनीयर वाटर रिसोर्स मैनजेमेंट, फॉरेस्ट्री, फ़ूड प्रोसेसिंग, रूरल डेवलपमेंट, मशीन डेवलपमेंट जैसे क्षेत्रों में भी नौकरी कर सकते है। 

रिटेल कंपनीयां एग्री- साइंस ग्रेजुएट्स को जॉब देती है। यूपीएससी हर साल एग्रीकल्चरल स्पेशलिस्ट की नियुक्ति करती है। 



Conclusion: 

दोस्तों, कृषि दुनिया का सबसे पुराना व्यवसाय है और भारत में तो सबसे ज्यादा रोजगार भी कृषि क्षैत्र ही उपलब्ध कराता है। इसके साथ ही आजकल कृषि क्षैत्र में होने वाले के नए नए शोध और आधुनिक खेती के नए स्वरुप देखने को मिल रहे है। 

और इसी कारण आज दुनियाभर में खेती करने के तौर तरीके भी बदल रहे है। इसलिए हम यह कह सकते है कि आज के समय में कृषि एक बेहतर करियर का ऑप्शन बन कर उभरा है और आने वाले समय में इसमें लाखो रोजगार की सम्भावनाये मौजूद है। 

और आखिर में,

तो दोस्तों आपने इस पोस्ट में जाना कि Agriculture में क्या करियर ऑप्शन है, Agriculture में करियर कैसे बनायें। अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों में भी शेयर करे। इसके अलावा अगर आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये। धन्यवाद। 


आप ये भी पढ़े:


Rakesh Verma

Rakesh Verma is a Blogger, Affiliate Marketer and passionate about Stock Photography.

Leave a Reply